विविध

पिता का पत्र समाज व पुत्रों के नाम

लखनऊ के एक उच्चवर्गीय बूढ़े पिता ने अपने पुत्रों के नाम एक चिट्ठी लिखकर खुद को गोली मार ली।चिट्टी क्यों लिखी और क्या लिखा। यह जानने से पहले संक्षेप में चिट्टी लिखने की पृष्ठभूमि जान लेना जरूरी है। पिता सेना में कर्नल के पद से रिटार्यड हुए । वे लखनऊ के एक पॉश कॉलोनी में …

पिता का पत्र समाज व पुत्रों के नाम Read More »

सामाजिक न्याय

सामाजिक न्याय

ऐसी अवधारणा, जो सबको समान मानने का आग्रह करती है . इसके अनुसार सामाजिक, संस्कृतिक या धार्मिक आधार पर किसी से भेदभाव नही होना चाहिए . उत्तम जीवन जीने हेतु सबके पास न्यूनतम संसधान होने चाहिए . चाहे विकासशील हो या विकसित देश हो, दोनो में सामाजिक न्याय का विचार व इसकी अभिव्यक्तियाँ राजनीतिक मर्यादाओं …

सामाजिक न्याय Read More »

error: शेयर करने के लिए कृपया सोशल शेयर बटन का प्रयोग करें!